फ्युचर्स की किमत निश्चित करने की पद्धती - Pricing of Futures in Hindi.

फ्युचर्स की किमत निश्चित करने की पद्धती – Pricing of Futures in Hindi.

फ्युचर्स की किमत निश्चित करने की पद्धती – Pricing of Futures in Hindi. कॉन्टॅक्ट करने के बाद जैसे डीलीवरी की तारीख पास आती है वैसे ही कॉन्टॅक्ट के अंतर्गत आनेवाले असेट के भाव फ्यूचर्स के कॉन्ट्रॅक्ट के भाव के पास आता जाता है। वैसे न होने पर आर्बिट्रेज का मौका आगे पढ़े…

फ्युचर्स का परीचय - Introduction to Futures in Hindi.

फ्युचर्स का परीचय – Introduction to Futures in Hindi.

फ्युचर्स का परीचय – Introduction to Futures in Hindi. आर्थिक बाजार में डेरीव्हटीव्ह का व्यवहार बहुत आवश्यक भुमिका निभाता है। इसीलिए आजकल हर एक एक्सचेन्ज में फ्युचर्स और ऑप्शन्स के व्यवहार किए जाते है। साथ ही साथ ओटीसी के मार्केट में फॉरवर्ड के कॉन्टॅक्ट भी किए जाते है। इसीलिए हमें आगे पढ़े…

डेरिवेटिव्ह मार्केट का परिचय - Introduction to Derivatives Market in Hindi.

डेरिवेटिव्ह मार्केट का परिचय – Introduction to Derivatives Market in Hindi.

डेरिवेटिव्ह मार्केट का परिचय – Introduction to Derivatives Market in Hindi युरोप में सत्रहवीं सदी में कृषी उत्पादन पर व्यवहार करनेवाले ट्रेडर्स फ्यूचर्स और फॉरवर्ड के कॉन्ट्रॅक्ट करते थे। पहले के समय में यह सौदा करने का सिस्टीम वर्तमान के जैसा आधुनिक नही था। परिणाम स्वरूप ट्रेडिंग सिस्टम बिच बिच आगे पढ़े…

सिक्योरिटीज मार्केट क्या है - What is Securities Market in Hindi.

सिक्योरिटीज मार्केट क्या है? – What is Securities Market in Hindi.

सिक्योरिटीज क्या है? – What is Securities in Hindi. सिक्योरिटीज कॉन्टॅक्ट रेग्यूलेशन अॅक्ट १९५६ में ‘सिक्योरिटीज’ को परिभाषित किया गया है। इस में शेअर्स, बाँड, स्क्रिप्ट अथवा उसी तरह की किसी भी कंपनी अथवा कॉर्पोरेट संस्था या सरकार द्वारा इश्यु किए और बाजार में बेचे जा सके ऐसे अन्य सिक्योरिटीज आगे पढ़े…

शेयरों की श्रेणी - Class of Shares in Hindi

शेयरों की श्रेणी – Class of Shares in Hindi

शेयरों की श्रेणी – Class of Shares in Hindi बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज में सूचीबद्ध शेयरों को विभिन्न श्रेणियों में बाँटा गया है, जैसे ए, बी 1, बी 2 आदि। शेयरों को इन श्रेणियों में विभाजित करने के अपने मतलब तथा अपनी व्याख्याएँ हैं। किसी शेयर को किसी श्रेणी में रखने आगे पढ़े…

शेअर धारक को क्या करना चाहिए और क्या नहीं (General Do's & Don'ts for Investors in Hindi)

शेअर धारक को क्या करना चाहिए और क्या नहीं (General Do’s & Don’ts for Investors in Hindi)

शेअर धारक को क्या करना चाहिए और क्या नहीं (General Do’s & Don’ts for Investors in Hindi) क्या करना चाहिए (Do’s): हमेशा सेबी SEBI के पास रजिस्टर हुए शेअर दलाल के साथ ही व्यवदा करना चाहिए। अपने सभी निवेश किए पैसों के दस्तावेज की नमुना कॉपी (Copy of Investment Document) आगे पढ़े…

2020 में निवेश के लोकप्रिय विकल्प - Popular Investment Options in Hindi.

2020 में निवेश के लोकप्रिय विकल्प – Popular Investment Options in Hindi.

निवेश के लोकप्रिय विकल्प – Popular Investment Options in Hindi. क्या हो निवेश का सही तरीका? (What Should be the Right Method of Investment) पनी मेहनत की कमाई में से पाई-पाई जोड़कर जमा की गई पूँजी को निवेश करते वक्त अकसर निवेशक के दिमाग में यह सवाल सबसे पहले कौंधता आगे पढ़े…

विश्व में चर्चित कुछ लोकप्रिय निवेशक - Top Richest Investors in the World in Hindi

विश्व में चर्चित कुछ लोकप्रिय निवेशक – Top Richest Investors in the World in Hindi.

विश्व में चर्चित कुछ लोकप्रिय निवेशक – Top Richest Investors in the World in Hindi. वारेन बफे (Warren Buffet) अगस्त, 1930 को अमेरिका के ओमाहा में जनमे वारेन एडवर्ड बफे 30 को विश्व का सबसे सफलतम निवेशक माना जाता है। सन् 2020 में फोर्ब्स द्वारा जारी अमीर लोगों की सूची आगे पढ़े…

स्टॉक मार्केट के बड़ी गिरावटें - Stock Market Crashes in Hindi.

स्टॉक मार्केट के बड़ी गिरावटें – Stock Market Crashes in Hindi.

स्टॉक मार्केट के बड़ी गिरावटें – Stock Market Crashes in Hindi. हर देश की अर्थव्यवस्था चक्रीय होती है। और इन्हीं चक्रों (साइकल्स) के आधार पर शेयर बाजार में कभी तेजी तो कभी मंदी का दौर आता है। हालाँकि हर देश में शेयर बाजार में आनेवाली तेजी या मंदी वहाँ की आगे पढ़े…

सेबी - इनसाइडर ट्रेडिंग का निषेध (SEBI - Prohibition of Insider Trading in hindi)

सेबी – इनसाइडर ट्रेडिंग का निषेध (SEBI – Prohibition of Insider Trading in hindi)

सेबी – इनसाइडर ट्रेडिंग का निषेध (SEBI – Prohibition of Insider Trading) १९९२ के कानून के तहत इनसाइडर ट्रेडिंग पर सेबी ने निषेध लगाया है। अंदरूनी व्यक्ति (Insider): इस व्यक्ति के पास कंपनी के सभी अंतर्गत और गुप्त व्यवहार संभालने की जिम्मेदारी होती है। उदा. कंपनी को मिलनेवाले ऑर्डर्स, बोनस आगे पढ़े…

hi_INHindi