क्या आपको पता है की डेब्ट इनवेस्टमेंट क्या है? – Debt Investment in Hindi अगर आपको पता नहीं है तो आप इस ब्लॉग को पूरा पढ़े.

डेब्ट इनवेस्टमेंट क्या है? – Debt Investment in Hindi

डेब्ट इनवेस्टमेंट के व्यवहार में एक पार्टी किसी कारण से दुसरे पार्टी से कुछ रक्कम उधार लेती है। यह रक्कम कुछ समय के लिए दी जाती है।

उस पर कुछ प्रतिशत ब्याज लगाया जाता है। यह डेब्ट इनवेस्टमेंट जब सेन्ट्रल और स्टेट गव्हरमेंट इश्यु करते है तब उसे बाँड कहते है। जब यह इनवेस्टमेंट प्रायवेट कारर्पोरेट कंपनी इश्यु करती है तब उसे डिबेंचर कहते है।

डेब्ट इंस्ट्रूमेंट टरमिनॉलॉजी (Debt Instrument Terminology in Hindi):

डेब्ट इंस्ट्रूमेंट के तीन विभाग होते है – मॅच्युरिटी, कुपन, प्रिन्सिपल।

मॅच्युरिटी (Maturity):

मॅच्युरिटी याने बाँड का समय पूर्ण होने की तारीख, अर्थात उस तारीख को उधारी लेनेवाला उधारी वापिस देने को तैयार होता है।

कुपन (Coupon):

बाँड इश्यु करनेवाले को अर्थात उधारी लेनेवाले को, पैसे उधार देनेवाले को समय के निश्चित अंतराल पर इश्यु किए बाँड पर ब्याज देना पड़ता है। उस ब्याज को कुपन कहते है।

प्रिन्सिपल (Principal):

बाँड में जिस मुल रक्कम की उधारी ली जाती है उसे प्रिन्सिपल अमाऊंट अथवा प्रिन्सिपल कहते है। कुपन प्रिन्सिपल अमाऊंट और उस पर लागू होनेवाले ब्याज के दर पर तय किया जाता है। प्रिन्सिपल को बाँड की फेस वॅल्यु भी कहा जाता है।

डेब्ट मार्केट के सेगमेंट (Segments of Debt Market):

भारत में डेब्ट मार्केट के मुख्य तीन सेगमेंट है।

डेब्ट मार्केट में हिस्सा लेनेवाले (Participants of Debt Market):

यह सबसे बड़ा निवेश है और सामान्यरूप से इसका व्यवहार होलसेल में ही होता है। इसमें बैंक, फायनानशियल इनस्टीटयुशन, म्युचुअल फंड, प्रोविडन्ट फंड, इनशुरन्स कंपनियाँ, कॉर्पोरेटस, इन सभी का सहभाग होता है।

डेब्ट मार्केट में से सिक्योरिटीज की खरीदी कैसे करनी चाहिए (How can one Acquire Securities in Debt Market):

यह सिक्योरिटीज खरीदी करने के लिए सरकार अथवा कॉर्पोरेट से बाँड इश्यु होते है। साथ ही आप वही बाँड सेकंडरी मार्केट में से स्टॉक एक्सचेंज के जरिए ले सकते है।

हम आशा करते है की हमारी ये (डेब्ट इनवेस्टमेंट क्या है? – Debt Investment in Hindi) ब्लॉग पोस्ट आपको पसंद आयी होगी अगर आपको शेयर मार्किट से जुड़ा कोई भी सवाल है तो आप कृपया कमेंट में जरूर पूछे।

।। धन्यवाद ।।

Important Links:-

Open Demat & Trading Account in Zerodha – https://zerodha.com/?c=NH6775

83 / 100

3 टिप्पणियाँ

फन्डामेन्टल अ‍ॅनालिसीस क्या है और कैसे करें? - Fundamental Analysis In Hindi · मार्च 12, 2021 पर 4:42 अपराह्न

[…] डेब्ट इनवेस्टमेंट क्या है? – Debt Investment in Hi… […]

Penny Stock क्या है? - Penny Stock In Hindi · अप्रैल 1, 2021 पर 1:17 अपराह्न

[…] डेब्ट इनवेस्टमेंट क्या है? – Debt Investment in Hi… […]

PhonePe पैसे कैसे कमाता है? - How PhonePe Earn Money In Hindi · जुलाई 12, 2021 पर 2:22 अपराह्न

[…] डेब्ट इनवेस्टमेंट क्या है? – Debt Investment in Hindi […]

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

hi_INHindi