Share Market में शेयर खरीदी और बिक्री कैसे करे | How to Buy and Sell Shares For Beginners | Buying and Selling Stocks.

Share Market में शेयर खरीदी और बिक्री कैसे करे :-

वर्तमान में सेंसेक्स (Sensex) 37500 से 38500 के भाव के बीच में चल रहा है। भूतकाल का निवेश (Invest) अधिक समय के लिए Long Term याने पाँच से छह वर्षो तक का होता था।

लेकिन आज के समय में सेंसेक्स (Sensex) की तरह लम्बे समय की व्याख्या १२ से १५ महिने हो गई है। अब ३ से ५ वर्ष निवेश (Invest) करने का कोई फायदा नहीं क्योंकि मार्केट (market) में किसी भी समय शॉर्ट करेक्शन (Short Correction) आने की संभावना होती है।

जिस शेअर का भाव बहुत बढ़ा है, उसका फायदा समय समय पर लेना चाहिए। उसे अंग्रेजी में “Profit Book (प्रॉफिट बुक)” कहते है।

इसका अर्थ ऐसा नहीं की एक ही समय में अपना पूरा पोर्टफोलियो (Portfolio) बिक जाना चाहिए। उस पोर्टफोलियो (Portfolio) के दो तीन हिस्से करके हमें फायदा लेना चाहिए। यह तब होगा जब मार्केट (Market) ऊपर की तरफ जाएगा।

तब हमने बुक (Book) किए फायदे में से ही फिर से खरीदी करे जिससे आपके खरीदी का एवरेज (Average) कम होता है और बिके हुए शेअर का भी एवरेज (Average) मिलता है।

शेअर बाज़ार में अनुशासन का बहुत महत्व होता है। उस क्षेत्र में एक ही मार्ग से काम करना बहुत जरूरी है। उसी के साथ लचिलापन भी आवश्यक है।

यह दोनों नियम ध्यान में रखकर समय के अनुसार फायदा बुक (Book) करते रहकर बिक्री करते रहिए और साथ ही जब छोटा करेक्शन (Short Correction) होगा तब थोड़ी खरीदी चालू रखनी चाहिए।

कभी कभी अगर ऊपर की बात ध्यान में नहीं रखी तो ऊपर दिखनेवाला मुनाफा नुकसान में आने के लिए देर नहीं लगती और वह हम सह नहीं सकते।

बिक्री करने के बाद अगर उस पोर्टफोलियो (Portfolio) का भाव एकदम से बढ़ते चला गया और वो हमें नहीं मिला, तो हमें किसी भी प्रकार का खेद नहीं करना चाहिए क्योंकि इस शेअर बाज़ार में बेचने के लिए ऊपर का भाव और खरीदने के लिए नीचे का भाव कभी नहीं मिलता है।

यह इस मार्केट (Market) की विषेशता है। इसकी कोई एक बात छोड़कर हमने अपने भाव में शेअर बेचे है ऐसा समझकर चलेंगे तो ही हम शेअर मार्केट में टिक सकते है।

जब हम शेअर मार्केट में व्यवहार करते है तब उसमें हमें नुकसान हुआ तो उसका श्रेय दुसरो को न देकर वह मेरी गलती थी उसकी जिम्मेदार मैं ही हूँ ऐसा समझकर भविष्य में फिर से वह गलती न करके व्यवहार करनेवाले शेअर मार्केट में टिक सकते है।

How to Buy and Sell Shares For Beginners :-

जिस कंपनी का अहवाल (Report) अच्छा आया है या उसे अच्छा ऑर्डर (Order) मिलता है। ऐसी कंपनी भविष्य में अच्छा मुनाफा दिलानेवाली हो सकती है। इस कारण उनके शेअर में निवेश (Invest) करना फायदेमंद होता है।

उसे सट्टेबाजी में भी अच्छी मांग होती है। इसलिए इस शेअर में २०% से २५% फायदा लेकर व्यवहार बंद करना चाहिए।

लेकिन आँख बंद कर के उस कंपनी में निवेश (Invest) नहीं करना चाहिए हमें निवेश (Invest) करते वक़्त उस कंपनी के Fundamental Analysis अछि तरह से करना चाहिए और पूरी तरह से Business Model को समजना चाहिए।

आज के मार्केट में ऐसी परिस्थिति है कि अगर निवेशक (Investors) आठ से दस स्क्रिप्ट लेकर ठिक तरह मर्यादा से बेचकर एक दो बार मुनाफा कमाते है

तो वह फायदा लम्बे समय के निवेश (Invest) से मिलने वाले फायदे से अधिक होता है। उसे अंग्रेजी में चरनिंग (Charaning) कहते है।

Buying and Selling Stocks :-

जब कंपनी के पास बहुत पैसा होता है और साथ ही सामान्य आदमी की खरीदने की क्षमता अधिक होती है तब हमें ऐसा समझना चाहिए कि मार्केट (Market) की परिस्थिति अच्छी है।

उस वक्त शेअर मार्केट के भाव बढ़ते जाते है और तेजी से उसके स्क्रिप्ट के भाव भी बढ़ते जाते है। जिससे मार्केट (Market) का चढ़ाव ऊपर होते जाता है।

तब ऐसा दर्शाया जाता है कि बाहरी निवेशक (Investors) और कंपनी खरीदी के लिए तैयार है। दुसरे शब्दों में बताना हो तो माल की क्षमता के मुकाबले मांग अधिक होती है।

जब बाज़ार नीचे आता है तब व्हॉल्युम (Volume) कम हो जाता है। इसका अर्थ यह है कि जब बाज़ार का झुकाव नीचे होता है तब शेअर धारक खुद के शेअर कम भाव में बेचने को तैयार नहीं होते।

जब करेक्शन (Correction) होता है उस समय व्हॉल्युम (Volume) बढ़ा तो मंदी के दौर का निर्माण होता है।

तब छोटे बड़े नुकसान से बाहर निकलना अच्छा और जब बाज़ार में तेजी का माहौल दिखाने लगे तब थोड़ी थोड़ी खरीदी करके पोर्टफोलियो (Portfolio) में फायदा बुक (Book) करके बाहर निकलना चाहिए।

कंपनी का फंडामेंटल (Fundamental) अच्छा नहीं होगा तो वह पोर्टफोलियो (Portfolio) नहीं खरीदनी चाहिए। वह सस्ते में मिल रही हो तो भी वह नहीं खरीदनी चाहिए क्योंकि उस कंपनी का भविष्य उज्वल नहीं है।

जिस कंपनी की कार्यक्षमता अच्छी है साथ ही वह कम निवेश में अधिक फायदा दिलाती है और उसकी भितरी प्रगति करने की क्षमता भी अच्छी है तब ऐसी कंपनी की पोर्टफोलियो (Portfolio) में निवेश (Invest) करने में कोई हर्ज नहीं।

यहाँ यह भी देखना जरूरी है कि वह कंपनी निवेशक (Investors) को भविष्य में ३ से ५ वर्षों तक फायदा दे सकती है या नहीं।

एक बात ध्यान में रखीए की अगर कंपनी की कमाई बढ़ी तो भी उसके कुल मुनाफे में उतनी बढ़ोतरी नहीं होती। तो उस कंपनी के शेअर लेकर कोई फायदा नहीं होता।

सेकंडरी (Secondary) कंपनी में २० से ३० प्रतिशत से अधिक निवेश (Invest) करना आपके पोर्टफोलियो (Portfolio) के हित का नहीं होता।

आज खास करके जब कंपनी में तेजी आती है तब बिना डगमगाए वहा से निकल जाईए और किसी भी कारण से करेक्शन( Correction) में फंसने से पहले निकलना जरूरी है। नहीं तो वह कंपनी के शेयर बेचते समय आपको बहुत दिक्कत होगी।

अगर किसी शेयर का भाव आपके भाव के ऊपर या नीचे हुआ तो तुरंत फायदा बुक करना अच्छा है। कभी भी संपूर्ण निवेश (Invest) एक ही कंपनी के शेयर में नहीं करना चाहिए। हमारे पोर्टफोलियो (Portfolio) (खाते) में १० से १२ कंपनी के शेयर्स रखने चाहिए।

तेजी का दौर कम हुआ तो खरीदी में जल्दबाजी नहीं करनी चाहिए और आपको लगता हो की कोई शेयर बढ़ेगा पर वह बढ़ा नहीं और उसके भाव में खास हलचल नहीं होती तब उसे वैसे ही रहने देना चाहिए। सिर्फ अच्छे फंडामेंटस् (Fundamental) वाली शेयर्स में निवेश करना चाहिए।

जो शेयर के भाव में वर्तमान में बहुत बड़ी हलचल हो रही है उसमें से तुरंत मुनाफा लेकर बाहर निकल जाना चाहिए। वहा पर लालच नहीं करना चाहिए और अपने लालच पर नियंत्रण रखना चाहिए।

शेअर खरीदते समय अपने देश की आर्थिक परिस्थिति और साथ ही दुनिया भर की आर्थिक परिस्थिति भी देखनी चाहिए।

अपना ध्यान सेंसेक्स (Sensex) पर केंद्रित कीजिए और साथ ही दुनिया भर के सूचकांक (Index) पर भी नज़र रखिए। मार्केट (Market) के सभी सेक्टरर्स (Sectorers) की हलचल पर भी ध्यान दीजिए।

यह सब विश्लेषण (Analysis) करने के बाद ही कोई भी कंपनी के शेयर्स खरीदीए। हर कोई किसी विशेष कंपनी के शेअर खरीद रहे है इसलिए हमें भी लेने चाहिए ऐसा जरूरी नहीं।

ऊपर की सभी बातों पर ध्यान दिया तो हम योग्य प्रकार से खरीदी और बिक्री कर पाएंगे।

।। धन्यवाद ।।

Important Links :-

Open Demat Account in Zerodhahttps://zerodha.com/?c=NH6775

76 / 100
श्रेणी: Share Market

3 टिप्पणियाँ

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

hi_INHindi