शेयर बाजार से पैसा कैसे कमाये – (How to Earn Money in Share Market Daily in Hindi):-

प्रत्येक व्यक्ति को अच्छा जीवन व्यतीत करने के लिए, बच्चों को अच्छी शिक्षा देने के लिए अच्छी कमाई होना जरूरी है।

आज के युग में प्रत्येक व्यक्ति को लगता है कि Share Market (शेअर बाज़ार) में अधिक पैसा मिलता है इसलिए ज्यादातर व्यक्ति वहा आकर्षित होते है।

लेकिन यह बात ध्यान में रखनी चाहिए कि एक दिन में धनवान बनना आसान नहीं।अगर आप ठिक तरह से जानकारो की मद्द से Invest (निवेश) करते है तो वह अयोग्य नहीं।

साथ ही नीचे दी गई बातें ध्यान से पढकर वह व्यवहार में लाकर ठिक तरह से जानकर आप Invest (निवेश) करते है तो आपके सपने साकार हो सकते है।

शेअर बाज़ार के निवेश का वर्गिकरण (Classification on Investments in Stock Market):-

  • जो शेअर धारक (Share Holder) कम समय में शेअर का लेन देन करते है उन्हें हम अंग्रेजी में चरनिंग (Churning) कहते है। इस निवेश (Invest) को शॉर्ट टर्म इनवेस्टमेंट (Short Term Investment) कहते है।
  • कुछ शेअर धारक (Share Holder) ऐसे है जो किसी भी दस या पंद्रह स्क्रिप्ट में पैसे लगाकर तीन से पाँच साल तक रखते है और उनकी खरीदी भी मार्केट (Market) में भाव नीचे आने पर ५ से १० % से करते है।
  • मार्केट (Market) में कुछ निवेशक (Investor) एक दिन में ही शेअर की खरीदी बिक्री करके नफा या घाटा बुक करके व्यवहार पूर्ण करते है। पूंजी कम होने के कारण उन्हें एक ही दिन में यह व्यवहार करना पड़ता है लेकिन इसमें बहुत जोखिम होता है।
  • प्फ्युचर (Future) और ऑप्शन (Option) में शेअर बाज़ार (Share Market) के नियमों के नुसार स्क्रिप्ट का काम करने के लिए बाज़ार भाव से एक लॉट लेने के लिए २०% मार्जिन देना पड़ता है।
  • इंडेक्स फ्युचर (Index Future) में काम करना होगा तो १०% मार्जिन देनी पड़ती है। इस व्यापार में व्यवहार करने के लिए ज्यादा पूंजी की जरूरत होती है। साथ ही इसमें जोखिम भी अधिक है।

पहले दो निवेश (Invest) के प्रकार आसान हो सकते है सिर्फ उनमें दिमाग शांत रखकर ठिक तरह से काम किया तो फायदा मिल सकता है।

तीसरे प्रकार के निवेश (Invest) में मेरे विचार से १० दिन में जो मुनाफा हुआ है वह एक दिन के नुकसान में गायब हो सकता है। यह शेअर मार्केट (Share Market) का इतिहास है।

इसलिए शेअर धारको (Share Holder) को एक दिन के लेन देन से दूर रहना जरूरी है। अगर हमने एक ही दिन में ८ से १२ % मुनाफा हासिल किया तो हमने उसमें किसी भी प्रकार की गलती नहीं की लेकिन ऐसा करने से हमारा लालच बढ सकता है

इसलिए हमें वह आदत नहीं डालनी चाहिए।स्टॉक मार्केट (Stock Maket) में सभी स्क्रिप्ट का अलग अलग विभाग में वर्गीकरण किया होता है। इन विभागों को सेक्टरर्स कहा जाता है।

स्टॉक मार्केट (Stock Maket) में लिस्टेड सभी कंपनी कोई न कोई प्रोडक्ट या सर्विस प्रदान करती है, और एक ही तरह या उससे मिलते जुलते प्रोडक्ट या सर्विस प्रदान करने वाली बहुत सारी कंपनियाँ स्टॉक मार्केट (Stock Maket) में लिस्टेड है जिन्हें एक विशेष सेक्टर में शामिल किया गया है।

उदा. ऑटोमोटिव सेक्टर, बैंकिंग सेक्टर, सीमेंट सेक्टर, इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी सेक्टर, आयल और गैस सेक्टर, टेलिकॉम सेक्टर, पॉवर और इलेक्ट्रिक उत्पादन सेक्टर, फार्मास्यूटिकल्स सेक्टर, आदि.

निवेशक (Investor) ने एक हि विभाग में अपना निवेश न करके अलग अलग सेक्टरर्स की कंपनियों में निवेश (Invest) करना चाहिए।

इस मार्केट (Market) में निवेश (Invest) करने से पूर्व कौनसे विभाग का मार्केट (Market) अच्छा है यह देखकर चार पाँच विभागों का नियोजन करके हर एक विभाग में थोड़ा थोड़ा निवेश (Invest) करके ठिक तरीके से नफा कमाना आना चाहिए।

कछ निवेशक (Investor) ऐसे स्क्रिप्ट में निवेश (Invest) करते है, जिनमें फायदे का प्रमाण धीरे धीरे बढता है और कुछ निवेशक (Investor) जल्दी नफा मिलना चाहिए इसलिए ऐसे स्क्रिप्ट में निवेश (Invest) करते है जिनमें फायदे का प्रमाण जल्दी बढता है।

लेकिन उसमें जोखिम का प्रमाण भी अधिक होता है। इसलिए ऐसे स्क्रिप्ट से दूर रहना ही उचित है। अगर निवेश (Invest) किया ही है तो फायदा मिलने के तुरंत बाद उससे बाहर आना चाहिए।

इस निवेश (Invest) में हम पूरे पैसों से सिर्फ २० से २५% हिस्सा लगाना चाहिए। वह निवेश (Invest) इस तरह करना चाहिए और इसके साथ जिनको मालूम है कि इससे बाहर कैसे निकला जाए उन्होंने ही यह व्यवहार करना चाहिए।

अगर आपने शेअर बाज़ार (Share Market) में निवेश (Invest) करने का तय किया है तो आप अपनी रक्कम निश्चित करके मार्केट की शर्तो के अनुसार अगर मार्केट (Market) नीचे आता है

तो खरीदी नहीं करनी चाहिए और जब मार्केट प्रगती कर रहा हो उस वक्त कम रक्कम लगाकर शेअर खरीदने चाहिए।

एक ही दिन में हमें बड़ी रक्कम की खरीदी नहीं करनी चाहिए, जिससे हमें ऐसा न लगे की वहा हम फस गए है।

आपकी तय की हुई स्क्रिप्ट अगर ठिक भाव से आपको नहीं मिल रही है तो उसे अधिक भाव से लेने की जल्दबाजी न करे और नहीं मिली तो किसी भी प्रकार का खेद नहीं होना चाहिए।

आपको वह स्क्रिप्ट बाद में कम भाव से मिल सकती है। मेरा आपको यह कहना है कि एक ही स्क्रिप्ट में कभी भी संपूर्ण निवेश (Invest) के पाँच से सात प्रतिशत से अधिक निवेश (Invest) न कीजिए।

यह सामान्य शेअर मार्केट (Share Market) का सिद्धांत है। कंपनी की पूरी जानकारी लेकर उनमें से कोई अच्छी स्क्रिप्ट चुनकर अपने रूपए निवेश (Invest) कीजिए और यह करने के लिए आपके पास पर्याप्त समय होना चाहिए। तो ही हम जीवन में आगे बढ सकते

मार्केट (Market) में शेअर खरीदते समय उस कंपनी का संचालन कैसा है और उस कंपनी का मार्केट (Market) में कितने प्रमाण का उतार चढाव है। इसकी जानकारी लेनी चाहिए।

वह कंपनी हमारे भविष्य के लिए अच्छी है या नहीं यह सब टटोलकर ही उसने हमें वर्तमान में कम फायदा दिलाया तो भी चलेगा।

लेकिन भविष्य में अच्छा फायदा मिलने के लिए उसी कंपनी में हमें निवेश (Invest) करना चाहिए।

।। धन्यवाद् ।।

Important Links :-

Open Demat Account in Zerodhahttps://zerodha.com/?c=NH6775

73 / 100
श्रेणी: Share Market

0 टिप्पणियाँ

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

hi_INHindi