क्या आपको पता है की डे ट्रेडर को टालनी चाहिए ऐसी बातें – Intraday Market Guide in Hindi अगर आपको पता नहीं है तो आप इस ब्लॉग को पूरा पढ़े.

डे ट्रेडर को टालनी चाहिए ऐसी बातें – Intraday Market Guide in Hindi

डे ट्रेडिंग में आपको निचे दर्शाई गई बातों से दूर रहना चाहिए और वैसा करना बूरा समझना चाहिए।

बॉटम फिशिंग और टॉप फिशिंग से दूर रहना चाहिए (Avoid Bottom Fishing & Top Fishing):

तेजी के बाजार में जब तीव्र करेक्शन आता है तब ट्रेडर्स बॉटम फिशिंग स्ट्रॅटेजी का उपयोग करते है।

बॉटम फिशिंग स्ट्रॅटेजी का उपयोग करनेवाले ट्रेडर्स जीन शेअर्स के भाव अन्डर व्हॅल्यूड याने की जो शेअर्स के भाव बहुत निचे गिरे है उन शेअर्स को ढुंडकर खरीदते है।

कई बार कंपनी की आर्थिक स्थिति खराब होने के कारण डर का माहौल तैयार होता है और इसलिए उनके शेअर्स का भाव उनके फंडामेंटल से भी बहुत निचे आ जाता है और स्थिति सामान्य होने पर कंपनी के शेअर्स का भाव बढता है।

बॉटम फिशिंग स्ट्रॅटेजी का उपयोग करनेवाले निवेशकों को इसका फायदा होता है।

उदाहरण देकर बताना हो तो पिछले हफ्ते में जिन शेअर्स का भाव रू.२०० था वह अब रू.७५ है। वह भाव कंपनी के आर्थिक परफॉरमन्स से कम माना जाता है।

यह भाव कम होने की बात शायद सच हो सकती है। दिर्घ समय कौलए शायद वह अच्छी कमाई भी दे सकते हो परंतु डे ट्रेडर का उद्देश्य आज के दिन में ही कमाई करने का होता है। उसमें निवेश दिर्घ समय के मूल्यों का विश्लेषण करने के लिए नहीं होता।

डे ट्रेडर को एक बात ध्यान में रखनी चाहिए कि शेअर्स का वर्तमान भाव उसकी आज की डिमांड और सप्लाय का प्रतिनिधीत्व करता है।

एक ही बात डे ट्रेडर के ध्यान में रखनी चाहिए कि आज के दिन में ही कमाई करनी होती है, कल या आनेवाले दिनों में नही।

शेअर्स के भूतकाल के भाव को ध्यान में न रखकर उसका आज का भाव और उसमें होनेवाले उतार-चढाँव को ध्यान में रखकर उसमें डे ट्रेडिंग करना चाहिए।मंदी के बाजार में जब शार्प पूलबॅक आता है तब ट्रेडर्स टॉप फिशिंग स्ट्रॅटेजी का उपयोग करते है।

टॉप फिशिंग स्ट्रॅटेजी का उपयोग करनेवाले ट्रेडर्स जिन शेअर्स का भाव ओव्हर व्हॅल्यूड याने की जिन शेअर्स का भाव बहुत बढा हुआ है ऐसे शेअर्स को ढुंडकर उन्हें बेच देते है (शॉर्ट सेलिंग)।

कई बार कंपनी के विषय में कोई अच्छी खबर आने के कारण कंपनी के शेअर्स का भाव उसकी आर्थिक परिस्थिति से कई जादा बढ़ता है और बाद में कंपनी के शेअर्स का भाव घटता है तब टॉप फिशिंग स्ट्रॅटेजी का उपयोग करनेवालो को उसका फायदा होता है।

उदाहरण देकर बताना हो तो पिछले हफ्ते एक शेअर्स का भाव यह रू.८० था वह अब रू.३०० है। वह बहुत ही महँगे है और कुछ समय के बाद उसका भाव गिरकर कम हो सकता है परंतु डे ट्रेडर्स का उद्देश्य आज के दिन में ही कमाई करने का होता है न की अगले कुछ दिनों या हफ्तों में।

बॉटम और टॉप फिशिंग सुनने और पढने में अच्छा लगता है परंतु डे ट्रेडर ने तेजी के बाजार में तेजी का ही व्यापार करना चाहिए और मंदी के बाजार में मंदी का ही व्यापार करना चाहिए (शॉर्ट पोजिशन ही लेनी चाहिए)।

सफल हुए डे ट्रेडर जादा भाव से खरीदने में और उससे भी जादा भाव से बेचने में होशियार होते है। उसी तरह से कम भाव से बेचने में और उससे भी कम भाव से खरीदने में भी वह होशियार होते है।

बाजार स्वयं की दिशा बदलने के लिए आपके अभिप्राय की राह देखते नहीं । बैठता बाजार किस दिशा में जानेवाला है इसका निर्देश वह हमेशा आपको देता है या फिर वैसा माहौल बनाता है।

बाजार की वर्तमान गती कहाँ पर जाकर रूकेगी इसका तर्क वितर्क करते मत बैठिए। क्योंकि कईबार डे ट्रेडर स्ट्राँग स्क्रिप्ट खरीदने में और वीक (कमजोर) स्क्रिप्ट बेचने में असमर्थ होता है।

एवरेजिंग करना टालिए (Avoid Averaging Down):

जिन शेअर्स का भाव लगातार घटते जा रहा है ऐसे शेअर्स की नई नई खरीदी करके अपनी खरीदी किमत को निचे लाने के प्रयास को एवरेजिंग डाऊन कहते है।

शुरूआत में आपने कुछ खरीदी की हो तो उसके बाद की हर खरीदी कम करके उसके ॲवरेज प्राईज को निचे लाने का प्रयास मत कीजिए।

एक डे टेडर के रूप में आपको कभी भी एवरेजिंग नहीं करनी चाहिए। एक बात ध्यान में रखिए कि बाजार की चाल के साथ ही आपको ट्रेडिंग करनी चाहिए।

बाजार की चाल के विरूद्ध जाकर ट्रेडिंग नहीं करनी चाहिए। आपक एवरेज प्राईज को निचे लाने का प्रयास करके आप बाजार के वर्तमान प्रवाह के विरूद्ध जाकर ट्रेडिंग करने का प्रयास कर रहे हो।

ऐसा विचार करके कि बाजार का वर्तमान प्रवाह कछ देर बाद बदलेगा और उसमें से हमें फायदा होगा ऐसा भी कभी मत सोचिए।

एक बात हमेशा ध्यान में रखिए की जब आप अपने शेअर्स की एवरेज प्राईज निचे लाते है तब किसी छोटे नुकसान को एक बडे नुकसान में बदलते है। उस से आपका बहुत बडा घाटा हो सकता है।

हम आशा करते है की हमारी ये डे ट्रेडर को टालनी चाहिए ऐसी बातें – Intraday Market Guide in Hindi ब्लॉग पोस्ट आपको पसंद आयी होगी अगर आपको शेयर मार्किट से जुड़ा कोई भी सवाल है तो आप कृपया कमेंट में जरूर पूछे।

।। धन्यवाद ।।

Important Links:-

Open Demat & Trading Account in Zerodha – https://zerodha.com/?c=NH6775

77 / 100

3 टिप्पणियाँ

स्टॉक सिलेक्शन करने की स्ट्रॅटेजी - How To Select Stock For Intraday Trading In Hindi · जनवरी 14, 2021 पर 8:08 अपराह्न

[…] डे ट्रेडर को टालनी चाहिए ऐसी बातें – I… […]

चार्ट के प्रकार - Types Of Charts In Stock Market · जनवरी 24, 2021 पर 12:44 अपराह्न

[…] डे ट्रेडर को टालनी चाहिए ऐसी बातें – I… […]

टेक्निकल अ‍ॅनालिसीस कैसे करें? - Learn Technical Analysis In Hindi · मार्च 4, 2021 पर 3:43 अपराह्न

[…] डे ट्रेडर को टालनी चाहिए ऐसी बातें – I… […]

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

hi_INHindi