डे ट्रेडिंग की पहचान – Intraday Trading For Beginners in Hindi

Table of Contents

क्या आपको पता है की डे ट्रेडिंग की पहचान – Intraday Trading For Beginners in Hindi अगर आपको पता नहीं है तो आप इस ब्लॉग को पूरा पढ़े.

डे ट्रेडिंग और डे ट्रेडर (Intraday Trading & Day Trader For Beginners in Hindi) :

  • शेअर्स (सिक्योरिटीज), फ्युचर्स ऑप्सन और करन्सी में दिन के दरम्यान किमत में होनेवाले उतार-चढॉव में से फायदा कमाने के हेतू से की गई खरीदी या बिक्री को डे ट्रेडिंग कहते है। डे ट्रेडिंग यह ट्रेडिंग की अन्य शैलीओं से अलग है। इसमें फायदा होता हो या घाटा, एक ही दिन में ट्रेडिंग को पूरा करना पडता है। इस में ओव्हर नाईट निवेश नहीं किया जाता।
  • डे ट्रेडिंग करनेवाले व्यक्ति को डे ट्रेडर के नाम से जाना जाता है। उन्हे मोमेन्टम ट्रेडर कहके भी पहचाना जाता है। डे ट्रेडर बाजार की गति के साथ ट्रेडिंग करनेवाला खिलाडी है। वह शीघ्र ही अपना फायदा कर लेते है और उस से भी शीघ्रता से अपना नुकसान घटाते है या रोक देते है। वह जिस दिन शेअर्स की खरीदी करते है उसी दिन जल्दी से बेच भी देते है। कई बार तो वह शेअर्स की खरीदी करने के बाद दो तीन घंटो या कुछ ही मिनटों में उनकी बिक्री करके मुनाफा कमा लेते है। इसका अर्थ यह होता है कि डे ट्रेडर अपनी पोजिशन दुसरे दिन के लिए कॅरीफॉरवर्ड नहीं करते। ट्रेडिंग सेशन के किसी भी समय में डे ट्रेडर खरीदी या बिक्री कर सकते है परंतु उस दिन के अंत में सभी ट्रेडिंग की पोजिशन को एक समान (बंद) करना पडता है।
  • डे ट्रेडर ऐसा खिलाडी है जिसके कारण बाजार में प्रवाह (व्होल्युम) आता है और बाजार के डिमांड और सप्लाय में बढोतरी होती है।

पोजिशन ट्रेडिंग और पोजिशनल ट्रेडर (Position Trading & Positional Trader For Beginners in Hindi) :

  • पोजिशन ट्रेडिंग डे ट्रेडिंग की तुलना में पूरी तरह से भिन्न है। पोजिशन ट्रेडिंग का मूख्य हेतू बाजार के प्राथमिक ट्रेन्ड के आधार से फायदा कमाने का होता है और डे ट्रेडिंग का हेतू बाजार में दिन के दरम्यान किमत में होनेवाले उतार-चढॉव में से फायदा कमाने का होता है।
  • पोजिशन ट्रेडर एक दिन से अधिक समय केलिए अपना व्यवहार (ट्रेड) पकड कर रखते है। उनका निवेश कम समय (शॉर्ट टर्म) के लिए होता है। याने की कुछ हफ्तें या कुछ महिनों के समय के लिए वह खुद की पोजिशन खडी रख सकते है। हर दिन होने वाले किमत के उतार-चढाँव से उनका कोई भी संबंध नहीं होता है।

दिर्घ समय का निवेश और दिर्घ कालीन निवेशक (Long Term Investing & Long Term Investor in Hindi) :

  • दिर्घ समय का निवेश (लाँग टर्म इन्वेस्टमेन्ट) शेअर्स, कमोडिटी और करन्सी में किया जाता है। दिर्घ समय के लिए निवेश करके उसमें से मुनाफा कमाने के हेतू से दिर्घकालीन ट्रेडिंग किया जाता है। इस प्रकार की ट्रेडिंग करने से पूर्व संस्थाओं के फंडामेन्टल्स का विश्लेषण किया जाता है। इस में टेक्निकल अॅनालिसीस का विश्लेषण करने की कोई जरूरत नहीं होती है।
  • दिर्घ समय के निवेशक उनकी पोजिशन कुछ वर्षों तक पकड कर रख सकते है। इस तरह से लाँग टर्म ट्रेडर डे ट्रेडर की तुलना में बिलकुल भिन्न प्रकार से कार्य करते है।

यहा पर एक बात ध्यान में लेने लायक है कि दिर्घ समय में, लाँग टर्म ईन्वेस्टर एक डे ट्रेडर की तुलना में अधिक मुनाफा कमाते है।

डे ट्रेडिंग के फायदे और नुकसान (Advantages & Disadvantages of Day Trading For Beginners in Hindi) :

बाजार में अफरातफरी का माहौल होता है तब पोजिशन ट्रेडिंग या इन्वेस्टमेन्ट की तुलना में डे ट्रेडिंग में अधिक मुनाफा कमाया जा सकता है। डे ट्रेडिंग के फायदे और नुकसान निचे दिए है।

डे ट्रेडिंग के फायदे (Advantages of Day Trading For Beginners in Hindi) :

१. लिवरेज में बढोतरी होती है (Increased Leverage) :

डे ट्रेडिंग में खडी की गई पोजिशन उसी दिन बंद करनी पड़ती है। इस कारण उसमें मार्जिन की जरूरत कम होती है। इसलिए डे ट्रेडर को उसके ट्रेडिंग कॅपिटल पर अधिक लिवरेज का फायदा मिलता है।

अगर आपने होशियारी से इस बढे हुए लिवरेज का उपयोग किया जाए तो आपका फायदा भी बढ़ सकता है।

इस अधिक लिवरेज के कारण आप अपने खाते में कम रकम जमा रखकर अधिक रूपयों की ट्रेडिंग कर सकते है।

उदा. ट्रेडर उनके खाते में रू.२०,००० का मार्जिन रखकर रू.१,००,००० से रू.१,२५,००० तक का ट्रेडिंग कर सकते है।

Note:

क्लायंट के ट्रेडिंग व्हॉल्यूम के अनुसार ब्रोकर मार्जिन मनी के पाँच से सात गुना मूल्य की ट्रेडिंग करने की छूट क्लायंट को देते है।

२. ओवर नाईट जोखिम का अभाव (No Overnight Risk):

डे ट्रेडर को खडी की हुई पोजिशन उसी दिन बंद करनी पडती है। अपनी पोजिशन बंद होने के कारण रात में घटी घटनाओं का दुसरे दिन के ओपनिंग प्राईज पर क्या परिणाम होगा और कल मार्केट की शुरूआत कैसे होगी इन चिंताओं में उन्हे रात नहीं बितानी पडती है।

३. फोर्स एक्झीट का फायदा (Advantages of Forced Exit) :

कई बार ईच्छा न होते हुए भी डे ट्रेडर को दिन के अंत से पहले अपनी पोजिशन में से बाहर निकलना पडता है परंतु यही उसके लिए कभी कभी फायदेमंद साबित होता है।

कई बार किसी पोजिशन में से हमें थोडा घाटा होता है और हमें आशा होती है कि शायद दुसरे दिन में उसमें सुधारणा होकर उस घाटे का मुनाफे में रूपांतर होगा परंतु ऐसे समय थोडा घाटा सहकर बाहर निकलना ही सही साबित होता है।

क्योंकि कभी कभी विपरीत परिस्थितिओं में दुसरे दिन भी उस पोजिशन में सुधार न होकर वह और भी निचे जा सकते है और हमारा इतना नुकसान होता है कि वह हमारी सहनशीलता की मर्यादा के बाहर होता है।

इसलिए उसी दिन पोजिशन को बंद करने से डे ट्रेडर उस घाटे से बच सकता है।अगर ट्रेडर ने उसकी पोजिशन ओव्हर नाईट खडी रखी तो । उसे दुसरे दिन ब्रोकर के पास मार्जिन की रकम जमा करने के लिए तुरंत बडी रकम का इंतजाम करना पडता है।

४. नफा या नुकसान की तुरंत मिलनेवाली प्रतिक्रिया (Immediate Feedback)

डे ट्रेडर को उनके ट्रेडिंग पर फायदा हो रहा है या नुकसान, इसकी जानकारी | दो तीन घंटों में ही मिल जाती है।

जिस दिन ट्रेडिंग किया जाता है उस दिन ट्रेडिंग सेशन में डे ट्रेडर को उस ट्रेडिंग से होनेवाले नफे या नुकसान का निश्चित अंदाजा मिलता है। पोजिशन ट्रेडर्स को इस बात का अंदाजा कुछ हफ्तों या महिनों के बाद मिलता है।

५. बाजार की तेजी या मंदी में भी मुनाफा लिया जा सकता है (Profit in any Market Direction) :

मार्केट का ट्रेन्ड तेजी का हो या मंदी का, डे ट्रेडर को दोनों स्थिति में ट्रेडिंग करके फायदा कमाने का मौका मिलता है।

डिलिवरी के आधार पर ट्रेडिंग करनेवाले निवेशक पहले शेअर्स की खरीदी करते है और डिलिवरी लेते है। बाद में शेअर्स का भाव बढने के बाद वह बेचकर मुनाफा कमाते है।

इसलिए बाजार में जब मंदी होती है तब वह कुछ भी नहीं कर सकते जिस कारण उन्हे मुनाफा भी नहीं होता है।

ऐसी मंदी के माहौल में डे ट्रेडर स्क्रिप्ट की पहले बिक्री करके और स्क्रिप्ट का भाव और भी निचे गिरने के बाद खरीदी करके मुनाफा कमाते है। इसे शॉर्ट सेलिंग कहा जाता है।

६.कम व्यवहार खर्च (Low Transaction Cost) :

डिलिवरी पर आधारीत व्यवहार की तुलना में डे ट्रेडिंग में कम खर्च होता है। दुसरे शब्दों में बताना हो तो डे ट्रेडिंग के व्यवहार में दलाली कम देनी पडती है।

साधारण रूप से डिलिवरी के व्यवहार में दलाली का रेट ०.२५% से ०.५०% हो सकता है। शेअर्स की खरीदी और बिक्री करते समय दलाली देनी पडती है।

परंतु डे ट्रेडिंग में दलाली का रेट ०.०८% से ०.१५% होता है और दलाली सिर्फ खरीदी या बिक्री इन में से किसी एक पर ही देनी पड़ती है।

डे ट्रेडिंग के नुकसान (Disadvantages of Day Trading For Beginners in Hindi) :

डे ट्रेडिंग बहुत ही जोखिम भरा ट्रेडिंग है। दिर्घ समय के लिए बाजार की चाल के साथ उपयुक्त ट्रेडिंग करना हर किसी के लिए संभव नहीं होता है।

मैं डे ट्रेडिंग में से कितना मुनाफा कमा सकता हुँ? (How Much Money can I Make?):

मैं डे ट्रेडिंग में से कितना मुनाफा कमा सकता हूँ? यह एक बार बार पुछा जाने वाला सवाल है। हमारे संपर्क में आए हुए दस में से सात से आठ लोग यह सवाल पुछते है। इस सवाल का जवाब एकदम सरल है।

डे टेडिंग में से आप कितनी कमाई कर सकते है यह मुख्य रूप से दो बातों पर निर्भर है।

१. आपके निवेश का प्रमाण (The Amount you Invest) :

आप जितना अधिक निवेश करेंगे उतनी अधिक कमाई आप कर सकते है।

२. आप कितनी आक्रमकता से निवेश करते है (How Aggressively you Invest)

आप जितना जादा जोखिम उठा सकते है उतना जादा फायदा होने की संभावना होती है।

आपके निश्चित मुनाफे का आधार निचे दी हुई बातों पर निर्भर करता है।

  • – हर ट्रेडिंग का कूल मुनाफा (Net gain per trade)
  • – ट्रेडिंग की कुल संख्या (Number of trades)
  • – ट्रेडिंग के लिए दी जानेवाली दलाली (Commission Brokerage cost)

हम आशा करते है की हमारी ये डे ट्रेडिंग की पहचान – Intraday Trading For Beginners in Hindi ब्लॉग पोस्ट आपको पसंद आयी होगी अगर आपको शेयर मार्किट से जुड़ा कोई भी सवाल है तो आप कृपया कमेंट में जरूर पूछे।

।। धन्यवाद ।।

Important Links:-

Open Demat & Trading Account in Zerodha – https://zerodha.com/?c=NH6775

88 / 100

4 टिप्पणियाँ

इंट्राडे ट्रेडिंग टिप्स - Intraday Trading Tips In Hindi · जनवरी 7, 2021 पर 8:30 अपराह्न

[…] डे ट्रेडिंग की पहचान – Intraday Trading For Beginners in Hin… […]

इंट्राडे ट्रेडिंग की शुरूआत - Top 8 Rules To Start Intraday Trading In Hindi · जनवरी 10, 2021 पर 2:34 अपराह्न

[…] डे ट्रेडिंग की पहचान – Intraday Trading For Beginners in Hin… […]

डे ट्रेडिंग आपके लिए अनुकूल है क्या?- Will Intraday Trading Suit You ? Hindi. · मार्च 4, 2021 पर 3:49 अपराह्न

[…] डे ट्रेडिंग की पहचान – Intraday Trading For Beginners in Hin… […]

ट्रेडिंग और इन्वेस्टिंग में क्या फर्क है? - Difference Between Trading And Investing In Hindi · अप्रैल 18, 2021 पर 3:06 अपराह्न

[…] डे ट्रेडिंग की पहचान – Intraday Trading For Beginners in Hindi […]

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

hi_INHindi