Investment Basics For Beginners India

Inflation क्या है? और Investment करते समय आपको किन चीजों पे ध्यान देना चाहिए इसकी जानकारी आपको Investment Basics For Beginners India इस ब्लॉग में मिल जाएगी।

Savings and Investments (बचत और निवेश):

हमारी नियमित कमाई से खर्च निकालकर जो बचत होती है उसे अंग्रेजी में Savings (सेवींग) कहते है और वह बचत हमें भविष्य के खर्चों के लिए उपयोग में आती है।

उदा. बच्चों की उच्च शिक्षा के लिए, विवाह के समय, दवाईयाँ, ईलाज आदि के लिए उपयोग में आती है। बचाए हुए रूपयों का सही निवेश करके अधिक कमाई करने के लिए आयोजन करना जरूरी है।

Inflation क्या है?

Inflation (मुद्रास्फीति) का अर्थ है कि वस्तू की कीमत नीचे बढ़ जाना और रूपए का Value कम हो जाना। दुसरे शब्दों में कहे तो अगर किसी वस्तू की कीमत आज दस रूपए है

तो उसी वस्तू एक साल के बाद दस रूपयों से बढ़कर ग्यारह या बारह रूपयों में मिलेगी। इसी बढ़ी हुई कीमत को Inflation (मुद्रास्फीति) कहते है।

दुसरे उदाहरण से हमें यह पता चलता है कि अगर Inflation (मुद्रास्फीति) का वार्षिक दर 6% है और हम 7% में Investment करते है तब हमारी बचत सिर्फ १% ही होती है। इस तरह बचत के दर में कमी होती है।

इसी कारण Investment का आयोजन करना जरूरी है। यह चढ़ाव के दर पर निर्भर होता है। मगर इसी के साथ उसमें जो खतरा है उसका प्रमाण भी कम होना चाहिए।

Golden Rules of Investment (निवेश के सुनहरे नियम):

कमाई के साथ बचत करना जरूरी है और वह ठिक तरह से करनी चाहिए।

  • बचत नियमित करना जरूरी है। ।
  • बचत अधिक समय तक करना जरूरी है।
  • एक ही जगह Investment न करके वह अलग तरह से करनी चाहिए।

Investment Consideration (निवेश के समय महत्व की बातें):

बचाए गए रूपयों का हम Investment करके अधिक कमाई करना चाहते है, परंतु वह Investment सही जगह और सही समय पर नहीं किया तो उस Investment का कोई अर्थ नहीं।

निवेश का आयोजन करते समय महत्तव की बातें जो ध्यान में रखनी चाहिए –

  1. आपके Investment के लक्ष्य क्या है।
  2. Investment करने के बाद उस पर हमेशा ध्यान होना चाहिए।
  3. Savings योजना की पूरी जानकारी होनी चाहिए।
  4. आपकी की हुई Savings में से ही Investment कीजिए, न की ऋण लेकर।
  5. आपकी आर्थिक स्थिति के अनुसार Investment कीजिए।
  6. loss बर्दाश्त करने की शक्ति आप में होनी चाहिए।

सबसे पहले व्यक्ति को अपने Investment के उद्देश पर ध्यान देना चाहिए। जिससे बचत राशी बढ़नी चाहिए पर उसमें जो जोखिम है वह कम होना चाहिए।

आयोजन के पूर्व आपको इन बातों का अभ्यास करना जरूरी है। आपके कठिन समय में बचत आयोजन पर कोई दबाव न आए यह महत्वपूर्ण है।

बचत करने से पहले नीचे दी गई बातों का अध्ययन करना जरूरी है।

  1. भविष्य में अचानक आने वाले कठिन समय के लिए पहले से ही बचत करनी चाहिए।
  2. इसीलिए जीवन बिमा, चिकित्सा बिमा और दुर्घटना बिमा निकाल कर रखना चाहिए।
  3. खर्च पर नियंत्रण होना चाहिए।
  4. निवृत्त के समय आमदनी की योजना होनी चाहिए।

निवेश का आयोजन करते समय उद्देश (Investment Selection Criteria):-

Investment करते समय नीचे दी गई बातों का आयोजन करना अधिक महत्वपूर्ण है, चलिए उसका हम अध्ययन करते है।

  • खतरा (Risk)
  • फायदा (Return)
  • नकद राशी मिलने की और बाज़ार में तुरंत बेचने की क्षमता (Liqidity)
  • खर्च (Cost)
  • अलग अलग सेक्युरिटी में Invest करना (Diversification)
  • सेक्युरिटीस पर लगा हुआ कर (Taxes)
  • मेहनत और जानकारी (Efforts and Expertise)

निवेश करने से पहले की सावधानी (Care to be taken while Investing):-

Investment करने से पहले नीचे दिए गए मुद्दों का अभ्यास करना जरूरी है।

  • Investment की जानकारी देनेवाले महत्वपूर्ण कागजों को देखना।
  • दस्तावेजों के नियमों की जानकारी लेना।

Investment करते समय होनेवाला खर्चा और उससे होनेवाला फायदा कितना है यह देखना जरूरी है।

  • Investment की योजना आपकी जरूरत के अनुसार है या नहीं।
  • दलाल से संपूर्ण जानकारी हासिल करना।
  • आप जिस योजना में Investment कर रहे है वह सुरक्षित होनी चाहिए।
  • किसी आयोजन में कोई कठिनाई आए तो उससे बाहर निकलने का रास्ता पहले से पता होना चाहिए या फिर उसमें Invest नहीं करना चाहिए।

।। धन्यवाद ।।

Important Links :-

Open Demat & Trading Account in Zerodhahttps://zerodha.com/?c=NH6775

77 / 100
श्रेणी: Share Market

0 टिप्पणियाँ

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

hi_INHindi