क्या आपको पता है की ऑप्शन स्ट्रॅटेजीज कैसे करते है – Options Strategy Basic For Beginners Hindi. अगर आपको पता नहीं है तो आप इस ब्लॉग को पूरा पढ़े.

ऑप्शन स्ट्रॅटेजीज – Options Strategy Basic For Beginners Hindi.

मार्केट में होने वाली हलचल से फायदा कमाने के लिए ऑप्शन का संयोजन करके उपयोग किया जाता है। उसे ऑप्शन स्ट्रॅटेजी के नाम से जाना जाता है।

परंपरागत तरीके से शेअर्स का लेन देन करने के लिए ऑप्शन स्ट्रॅटेजी एक सरल मार्ग है। ऑप्शन के विकल्पो की मदद लेकर कम जोखीम के साथ अधिक फायदा कमाने का मौका मिलता है।

आपके निश्चित किए हुए शेअर्स में ऑप्शन का ट्रेडिंग करने केलिए कौनसी स्ट्रॅटेजी का चयन करना चाहिए यह आपको तय करना होता है।

ऑप्शन स्ट्रॅटेजी की मदद से ट्रेडिंग करने से ऑप्शन ट्रेडर के मुनाफा कमाने का विकल्प पूरा होता है।

इस स्ट्रॅटेजी की मदद से आपने निश्चित किए शेअर्स में ट्रेडिंग की और आपका निर्णय गलत साबीत होने पर भी आप अपने जोखीम को मर्यादित रख सकते है।

ऑप्शन स्ट्रॅटेजी का वर्गीकरण – Classification of Options Strategies in Hindi.

ऑप्शन स्ट्रॅटेजीज चार प्रकार की है। उनमें तेजी की (बुलिश) स्ट्रॅटेजी, मंदी की (बेअरीश) स्ट्रॅटेजी, बाजार में बडी हलचल (वोलेटाईल) हो रही हो उस वक्त की स्ट्रॅटेजी और न्युट्रल (तटस्थ) स्ट्रॅटेजी होती है।

तेजी की (बुलिश) स्ट्रॅटेजी – Bullish Strategies in Hindi.

  • लाँग कॉल
  • नेकेड पुट
  • कवर्ड कॉल
  • प्रोटेक्टीव पुट
  • बुल कॉल स्प्रेड
  • बुल पुट स्प्रेड
  • कॉल बॅक स्प्रेड

मंदी की (बेअरीश) स्ट्रॅटेजी – Bearish Strategies in Hindi.

  • लाँग पुट
  • नेकेड कॉल
  • बेअर कॉल स्प्रेड
  • बेअर पुट स्प्रेड
  • पुट बॅक स्प्रेड

न्युट्रल स्ट्रॅटेजी – Neutral Strategies in Hindi.

  • शॉर्ट स्ट्रॅडल
  • शॉर्ट स्टॅगल
  • लॉग बटरफ्लाय स्प्रेड
  • कॉलर

वोलेटाईल स्ट्रॅटेजी – Volatile Strategies in Hindi.

  • लाँग स्ट्रॅडल
  • लाँग स्टॅगल

ऑप्शन के लिए स्ट्रॅटेजी का चयन कैसे करें – Choosing Options Strategies in Hindi.

  • अगर आपको लगता है कि शेअर्स का भाव ऊपर जा सकता है तब आप बुलिश ऑप्शन स्ट्रॅटेजी का उपयोग कर सकते है।
  • अगर आपको लगता है कि शेअर्स का भाव निचे आ सकता है तब आप बेअरीश ऑप्शन स्ट्रॅटेजी का उपयोग कर सकते है।
  • शेअर्स का भाव एक ही जगह पर स्थिर रहनेवाला है ऐसा आपको लगता हो तो आप न्युट्रल ऑप्शन स्ट्रॅटेजी का उपयोग कर सकते है।
  • अगर आपको लगता हो कि शेअर्स के भाव में बहुत बडी बढोतरी या गिरावट होने वाली है तब आप चाहे तो वोलॅटाईल ऑप्शन स्ट्रॅटेजी का उपयोग कर सकते है।

हम आशा करते है की हमारी ये ऑप्शन स्ट्रॅटेजीज कैसे करते है – Options Strategy Basic For Beginners Hindi. ब्लॉग पोस्ट आपको पसंद आयी होगी अगर आपको शेयर मार्किट से जुड़ा कोई भी सवाल है तो आप कृपया कमेंट में जरूर पूछे।

।। धन्यवाद ।।

Important Links:-

Open Demat & Trading Account in Zerodha – https://zerodha.com/?c=NH6775

81 / 100
श्रेणी: Share Market

3 टिप्पणियाँ

नेकेड पुट ऑप्शन स्ट्रॅटेजी - Naked Put Options Strategy In Hindi · दिसम्बर 30, 2020 पर 9:00 अपराह्न

[…] ऑप्शन स्ट्रॅटेजीज – Options Strategy Basic For Beginners Hindi. […]

कवर्ड कॉल ऑप्शन स्ट्रॅटेजी - Covered Call Options Strategy In Hindi · मार्च 4, 2021 पर 4:01 अपराह्न

[…] ऑप्शन स्ट्रॅटेजीज – Options Strategy Basic For Beginners Hindi. […]

लाँग कॉल ऑप्शन स्ट्रॅटेजी - Long Call Option Strategy In Hindi · जुलाई 9, 2021 पर 8:17 अपराह्न

[…] ऑप्शन स्ट्रॅटेजीज – Options Strategy Basic For Beginners Hindi. […]

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

hi_INHindi